दर्द भरी शायरी – शायरी संग्रह भाग 9


दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,
गम में आंसू न बहते तो और क्या करते,
उसने मांगी थी हमसे रौशनी की दुआ,
हम अपना दिल न जलाते तो और क्या करते..

Image result for dard bhari

सदीयो से जागी आँखो को एक बार सुलाने आ जाओ,
माना की तुमको प्यार नहीं नफरत ही जताने आ जाऔ,
जिस मोङ पे हमको छोङ गये हम बैठे अब तक सोच रहे,
क्या भुल हुई क्यो जुदा हुए बस यह समझाने आ जाओ..

Related image


log in

reset password

Back to
log in