दर्द भरी शायरी – शायरी संग्रह भाग 2


मोहब्बत से गम,गम से हम पेरशान है
लाखो हैं दीवाने तेरे,मगर हम ही बदनाम है
इतना भी न सताओ अपने चाहने वालो को
पागल दीवाने ही सही मगर फिर भी इंसान तो है…..

खूबसूरती तो बहुत दी खुदा ने तुम्हे
मगर हमें तुम्हारी वफ़ा ना मिल सकी
बहुत आग दी हमने बुझते चिराग को
मगर मोहब्बत की शमा जल ना सकी……Related image


log in

reset password

Back to
log in